[BEST] 3 short love stories in hindi with moral

 नमस्ते, दोस्तों storyinhindi.in पे आपका स्वागत है। इस वेबसाइट पे हिंदी कहानियाँ शेयर की जाती है और आज हम आपके लिए top 3 short love stories in hindi with moral लेके आये है जिस पढ़ कर आप बहुत कुछ सिख सकते है।

top 3 short love stories in hindi with moral

आमिर घमंडी लड़की की कहानी heart touching love story with moral

एक गरीब लडके को एक अमीर लड़की से प्यार हो जाता है। लड़का उस लड़की से बहोत प्यार करता है लेकिन लड़की के दिल में क्या है उसे नहीं पता रहता है। लड़का उस लड़की को इतना प्यार करता है की एक दिन अगर उसे न देखे तो जैसे उसका दिन ही न गुजरे इसलिए वो हर रोज लड़की को देखने के लिए उसके घर के रास्ते से गुजरता था।

ऐसे कई दिनों तक चला फिर लड़के का प्यार इतना बढ़ गया की लड़के ने एक दिन लड़की को पर्पोज कर दिया फिर लड़की ने उसे मन करते हुए कह दिया "सुनो जितना तुम महीने का कमाते हो उतना मै एक दिन में खर्च कर देती हु, मै तुम्हारे साथ कैसे रह सकती हु और तुम मेरे साथ रहने के बारे में कैसे सोच सकते हो, तुम मुझे भूल जाओ मई तुम्हे कभी प्यार नही कर सकती, जाओ किसी अपने लेवल की लड़की से प्यार करो" इतना बोलकर लड़की वहा से चली जाती है।

और लड़का उस लड़की के विचार जानकर भी उसे भूल नही पाया और उस लड़की को प्यार करता रहा।

10 साल बाद - लड़का शोपिंग मॉल में कुछ कपडे लेने जाता है और तभी वो उस लड़की से टकरा जाता है जिस लड़की ने उसके प्यार को ठुकरा दिया था।

जब दोनों आपस में टकराते है तो लड़की उस लड़के को देख का बोलती है, "अरे !! तुम, कैसे हो मेरी तो शादी हो गयी और तुमको पता है मेरे पति महीने के 1 लाख रूपये कमाते है तुम कितना कमाते हो"
यह सुनकर लड़के की आंखे गीली हो जाती है और जैसे ही वो कुछ बोलने वाला रहता है की लड़की का पति वहाँ आ जाता है।

और लड़के को देखते ही बोलता है "अरे!! सर, आप यहाँ और आप मेरी पत्नी को जानते है" इतना बोलकर उसका का पति अपनी पत्नी की ओर देखकर बोलता है, "ये मेरे बॉस है मै इनकी कंपनी में job करता हु"

घमंडी लड़की का पति कहता है,"मेरे बॉस बहोत ही अच्छे इंसान है और बहोत आमिर भी है लेकिन जब वो गरीब थे तब उन्हें किसी लड़की से प्यार हो गया था और जब उन्होंने उस लड़की को पर्पोज किया तो उस लड़की ने मेरे बॉस को मना कर दिया ये बोल कर की तुम जितना कमाते हो उतना मै एक दिन में उड़ा देती हु

और तब से बॉस का दिल टूट गया और उन्होंने अभी तक शादी भी नही की, वो लड़की भी कितना खुशकिस्मत होती अगर उसने मेरे बॉस से शादी कर ली होती" इतना सब सुनकर लड़की चौक गयी और उसे एहसास भी हुआ की उसने बहोत बड़ी गलती कर ली।

moral of this story -

जीवन बहुत ही छोटा है इसे घमंड करने में बर्बाद न करे और सबका भविष्य हमेसा बदलता रहता है किसी को आमिर गरीब देख कर प्यार न करे क्युकी इन्सान गरीब है तो कभी भी आमिर हो सकता है और आमिर है तो वह गरीब भी हो सकता है।

शर्मीले लड़के का सच्चा प्यार - true love story with moral

अजय को उसके किसी रिश्तेदार के घर से शादी का एक निमंत्रण आता है और अजय जब निमंत्रण पत्र खोलता है तो देख कर चौक जाता है की शादी कल मैंने अभी तक शादी में पहनने के लिए कपडे भी नहीं लिए फिर वह मार्किट से कपडे खरीदता है और अपने रिश्तेदार के घर जाने की तयारी करने लगता है।

शादी के दिन जब वो अपने रिश्तेदारों से बात करता है तो उसे एक लड़की दिखाई देती है जिसका नाम अंजली रहता है, अंजली को देखकर अजय जैसे किसी और ही दुनिया में खो जाता है, अंजली बहोत ही खूबसूरत दिखाई देती है और ओ अजय के रिश्तेदार की पडोसी होती है।

अजय हमेशा अंजली को ही देखता है और अंजली को जब ऐसा अनुभव होता है की उसे कोई देख रहा है तो अंजली अजय की तरफ देखती है और अजय शर्मा जाता है और अपनी नजरे निचे कर लेता है।

फिर अंजली जब अपने सहेलियों से बात करने लगाती है तो अजय फिर से अंजली को देखने लगता है और अजय को फिर से देखते हुए अंजली देख लेती है ऐसा कई बार होता है।

तो अंजली अजय से बोलती है "स्क्युज मी आप मुझे बार-बार क्यों देख रहे है" अजय बहोत शर्मीला लड़का था वह डर भी गया की कही मेरी पिटाई ना हो जाये फिर वो डरते हुए बोला वैसे ही देख रहा हु आप बहोत अच्छी लग रही है फिर अंजली बोलती है "अच्छा" इतना बोलकर अंजली वहा से जाने लगाती है।

तभी अजय डरते हुए बोलता है "सुनिए" अंजली बोलती है "हां जी बोलिए" अजय बोलता है, " मै आपसे दोस्ती करना चाहता हु क्या आप मेरी दोस्त बनना पसंद करेंगी"

अंजली बोलती है "नहीं आपके जैसे बहोत लड़के पहले दोस्ती करते है फिर पर्पोज कर देते है वैसे आप भी करेंगे और मुझे ये सब नही करना क्युकी ज्यादातर लड़के प्यार का बहाना कर के use करते है और छोड़ के चले जाते है।

फिर अजय बोलता है "अगर ऐसी बात है तो मै आपको साफ़ साफ़ बता देता हु की मुझे आपसे प्यार हो गया है और मै आपसे शादी भी करना चाहता हु" यह सुनकर अंजली बोली अच्छा मै आपको इतना पसंद आ गयी की आप मुझसे शादी भी करना चाहते है।

अजय बोलता है, "हा अब आप मुझे अपना mobile नंबर दे दीजिये लड़की अपना नंबर दे देती है और दोनों कुछ दिन फ़ोन पे बात करते है तो अंजली को अजय धीरे-धीरे अच्छा लगने लगता है और कुछ दिन बात करने के बाद अंजली भी अजय के प्यार में पागल हो जाती है।

कुछ दिन ऐसे गुजर गए फिर एक दिन अंजलि के माता और पिता जी को यह बात पता चल जाती है और इस बात से अंजलि के मात-पिता नाराज हो जाते है लेकिन समय के साथ-साथ अंजलि के माता पिता को भी वह लड़का पसंद आ जाता है और वे लोग अंजलि की शादी अजय से करने के लिए राज़ी हो जाते है।

अंजलि और अजय बहोत खुश होते है तभी अचानक अजय को एक काल आता है और उसे किसी काम से शहर से बाहर जाना पड़ता है, अजय के गए हुए एक हफ्ते ही हुए थे की अंजलि का एक्सीडेंट हो जाता है।

और अंजलि के चहरे पे चोट लग जाती है जिसके कारण उसका पूरा चेहरा ख़राब हो जाता है और जब अंजलि को एक हफ्ते बाद होश आता है तो सामने उसके माता पिता रोते हुए मिलते है अंजलि को लगता है की कुछ गड़बड़ है और जब वो अपने माँ और पिता जी से बोलती है की मै तो ठीक हु आप दोनों क्यों रो रहे हो।

तब अंजलि के पिता उसे सब कुछ बता देते है और अंजलि बहोत ही दुखी हो जाती है और हमेशा एक कमरे में बैठ कर रोती है अजय को किये गए वादे को तोड़ने की सोचती है क्युकी उसको लगता है की अब मुझसे अजय शादी नही करेगा, यह सब सोचकर वह अजय का काल रिसीव नहीं करती है और न ही उसके मैसज का रिप्लाई देती है।

एक हफ्ते बाद अचानक से अंजलि की माँ उसके कमरे में आती है और उससे से बोलती है अजय वापस अपना काम करके आ गया है और ओ तुमसे मिलना चाहता है तब अंजलि बोलती है, "नहीं मै अजय से नहीं मिलना चाहती उसे बोल दो की वापस चला जाये और मुझे भूल जाए"

अंजलि की माँ उससे बोलती है, "वो शादी कर रहा है और वो निमंत्रण देने आया है" इतना बोल कर उसकी माँ वहाँ से चली जाती है, अंजलि का दिल डूब गया वह उदास हो गयी उसके आँखों में आंसू आ गए लेकिन जब वो शादी का कार्ड खोलती है तो बिलकुल चौक जाती है।

और पीछे की तरफ मूड कर वो अपनी माँ के पास जाने वाली ही रहती है की तभी सामने अजय खड़ा हुआ मिलता है और अंजलि उसको देख कर बोलती है, "ये क्या है शादी के कार्ड पे मेरा नाम" तब अजय जवाब देता है'" मै तुमसे प्यार करता हु, तुम्हारे मन से प्यार करता हु, तुम्हारी आत्मा से प्यार करता हु ना की तुम्हारे तन से"

इतना बोलते ही वह घुटनों के बल बैठ जाता है और अंजलि को शादी के लिए पर्पोज करता है और वह मुस्कुरा के हा कर देती है दोनों की शादी हो जाती है और दोनों बहोत खुश रहते है।

Moral -

इस छोटी सी प्यार भरी कहानी से हमें दो चीज सिखने को मिलता है की हर इन्सान एक जैसा नही होता है और दूसरी सिख, सच्चा प्यार तो दिल से होता है।

सीधी साधी लड़की को मिला प्यार में धोका - moral love story in hindi

एक सीधी साधी लड़की जिसका नाम सपना था वह राजस्थान के एक छोटे से गाव में रहती थी फिर वो MBBS की पढाई करने के लिए अपने दादा जी के पास मुंबई चली जाती है और कुछ दिन दादा जी के साथ रहने के बाद वह कालेज में एडमिशन करा लेती है और वही हॉस्टल में रहने लगाती है।

सपना हर रोज की तरह सुबह उठकर भगवान् का पूजा करके class करने जाती थी कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा और फिर एक दिन class में उसकी एक रवि नाम के लड़के से मुलाकात होती है।

और वो दोनों एक अच्छे दोस्त बन जाते है फिर दोनों एक साथ class में बैठ कर पढने लगते है इससे उन दोनों की दोस्ती और भी गहरी हो जाती है कुछ दिन ऐसे ही चलता है फिर एक दिन सपना बहोत बीमार हो जाती है और उस दिन class करने नहीं जाती है।

रवि उस दिन सपना को class में न देखकर सोचता है आज सपना क्यों नही आई, जब class ख़त्म हो जाता है तो रवि सपना से मिलने के लिए जाता है और उसे इस हालत में देख कर बोलता है तुमने खाना खाया की नही सपना बोलती है "नहीं" फिर रवि उसे खाना खाने को बोलता है और सपना मना कर देती है।

फिर रवि सपना को डांट कर उसे अपने हाथ से खाना खिलाता है खाना खिलाने के बाद उसे दवा खिला कर उसे बेड पर सुला देता है और बोलता है, "आराम करो पढने की कोई जरुरत नही " इतना बोलकर वहा से चला जाता है।

फिर अगले दिन रवि सुबह उठकर पहले सपना से मिलता है और उसका हाल पूछता है सपना बोलती है"मै अभी ठीक हु लेकिन अभी भी थोडा बुखार और सर में दर्द है" रवि कहता है ठीक है आज आराम करो class करने मत जाओ इतना बोलकर वो वहा से चला जाता है।

और फिर जब रवि class कर लेता है तो फिर सपना से मिलने आता है और उसे खाना खिला कर सोने को बोल देता है और अपने रूम में चला जाता है।

रवि के जाने के बाद सपना सोचने लगती है अगर रवि न होता तो मेरा क्या होता वो कितना अच्छा लड़का है मेरा कितना ख्याल रखता है यही सब सोचते- सोचते सो जाती है।

अगले दिन सुबह उठकर सपना अपने रूम के बहार आती है और रवि को देखकर उसके चेहरे पे एक मुस्कान आ जाती है उसी समय रवि भी सपना को देख लेता है और मुस्कराने लगता फिर दोनों एक दुसरे के पास जाते है और रवि सपना का हाल पूछता है।

सपना बोलती है,"अब मै सही हो गयी हु और आज class भी करने आउंगी" फिर रवि बोलता है,"हा जरुर जाओ पहले तैयार तो हो जाओ" फिर दोनों अपने अपने रूम में चले जाते है और नहा खा कर लेक्चर रूम में मिलते है।

सपना रवि को देख कर मुस्कराने लगती है और रवि को देख कर उसे अच्छा फील होता है फिर रवि के प्रति सपना की फीलिंग बदलने लगती है और वो बार बार रवि के बारे में सोचती है, लेक्चर ख़तम होने के बाद रवि सपना से बोलता है,"आज मेरा पढाई में मन नहीं लग रहा था" सपना बोलती है सच में रवि बोलता है "हा" फिर सपना को लगता है की रवि भी मेरी तरह मेरे बारे सोच रहा था जैसे मै उसके के बारे में सोच रही थी।

फिर सपना रवि से पूछती है अच्छा ये बताओ तुम्हारा मन क्यों नही लग रहा था पढाई में, "रवि बोलता है ऐसे ही ध्यान भटक जा रहा था"

सपना बोलती है "सच्च सच बताओ क्या सोच रहे थे तुम्हे मेरी कसम सच सच बताना" रवि बोलता है "तुम्हारे बारे में सोच रहा था तुम मुझे अच्छी लगती हो" सपना बोलती है मुझे भी तुम अच्छी लगते हो फिर रवि सपना को पर्पोज कर देता है।

और सपना हा बोल देती है फिर दोनों हर रोज अपने प्यार का इजहार करते फिर 3 महीने बाद रवि सपना के साथ से**क्स करने को बोलता है और सपना मना कर देती फिर रवि उसे अपनी बातो में बहलाता है और बोलता है,"क्या तुम मुझसे प्यार नही करती" सपना बोलती है करती हु ना लेकिन मै ये सब अभी नहीं करुँगी।

रवि उसको बोलता है शादी तो मै तुमसे ही करूँगा बेबी मान जाओ ना, सपना उसकी बातो में आकर उसके साथ सब कुछ कर लेती है और फिर कुछ साल बाद पढाई ख़तम करने के बाद अपने अपने घर चले जाते है और दोनों एक दुसरे से फोन पे बात करते है।

कुछ साल ऐसे ही गुजर गए, सपना के लिए सपना के घर वाले रिश्ता देखने लगे यह जानकार सपना बहोत दुखी हो गयी और उसने रवि को फोन लगाया और उसे सब बता कर बोली "तुम कब आ रहे हो मेरे घर रिश्ता लेकर" रवि बोलता है,"सॉरी मै तुमसे शादी नही करना चाहता मुझे कोई और मिल गया है अब मुझे दोबारा काल मत करना"

यह सुनकर सपना के पैर तले जमी खिसक गयी और ओ रवि के किये गए वादे को याद करके रोने लगी फिर उसने खुद को संभाला और इस झूटे प्यार को एक सिख समझकर किसी पे जल्दी भरोसा करना छोड़ दिया।

moral -

इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है की किसी व्यक्ति को जब तक हम पूरी तरह ना समझ ले तब तक हमें उस पर पूरा 100 प्रतिशत विश्वास नही करना चाहिए।

अगर आपको यह short moral love stories अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे।