[TOP] 4 heart touching short love stories in hindi - रुला देने वाली कहानी

क्या आप दिल को छूने वाली प्यार भरी कहानियाँ खोज रहे है, तो आप सही वेबसाइट पर आये है क्युकी आज हम आपके लिए 8 heart touching short love stories हिंदी में लाये है जो आपको बहोत पसंद आयेंगी।

cute heart touching short shchool love stories in hindi


1.दिव्या और राहुल का प्यार - heart touching love story

दिव्या और राहुल बहोत अच्छे दोस्त थे, ये दोनों फ़ोन पर बहोत ज्यादा बात करते थे और वे दोनों फ़ोन पर जब भी बात किया करते थे तो इन दोनों को ऐसा लगता था जैसे दुनिया में कुछ और है ही नही बस यही दोनों है।

और इन दोनों को फ़ोन पे बात करने पर बहोत खुशी मिलती थी, फ़ोन पे बात करते वक्त इन्हें कभी किसी भी बात का दुःख और टेंसन महसूस नही होता था जभी इनको अपने पढाई को लेके बहोत टेंसन थी लेकिन उस वक्त इन्हें बस ख़ुशी मिलती थी जब वो फोन पर बात करते थे।

एक दिन दिव्या ने राहुल को मैसेज किया लेकिन मैसेज का कोई जवाब नही मिला उसने फिर कोशिश की लेकिन इस बार भी रिप्लाई नही आया फिर दिव्या ने कॉल लगाया और कॉल का भी कोई जवाब नही मिला।

पूरा दिन गुजर गया लेकिन राहुल न तो रिप्लाई दिया न ही कॉल किया, दिव्या बहोत चिंतित होने लगी उसको लगा कही राहुल को कुछ हो तो नही गया।

उस रात दिव्या सो नहीं पायी सारी रात वह चिंता में डूबी रही और उसे एहसास हुआ की वास्तव में राहुल उसके लिए कितना मायने रखता है।

अगली सुबह दिव्या को एक फ़ोन आया। यह राहुल ही था दिव्या बहुत खुस हुई और उसने फ़ोन उठाया

राहुल - हेल्लो

दिव्या - तुमसे बात करके मै खुश हु लेकिन कल तुम न तो मेरे मैसेज का रिप्लाई दे रहे थे और न ही मेरा फोन उठाया क्यों क्या हुआ था?

राहुल - मै व्यस्त था

दिव्या लगा की राहुल कुछ छुपा रहा है क्युकी ऐसा कौन सा काम आ गया की एक मैसेज का रिप्लाई नही दे सके वह कुछ देर चुप रही फिर

राहुल - मै अब तुमसे बात नही कर सकता 

दिव्या - क्या क्यों?

राहुल - सॉरी बाय

इतना बोल कर राहुल कॉल काट देता है और दिव्या को इस बात पर विश्वास नही होता है की राहुल ने उसका कॉल काट दिया, उसको ऐसा लगता है जैसे उसने अपने शारीर से कोई इम्पोर्टेन्ट हिस्सा खो दिया हो।

वह पहले की गयी बातो को याद करके सोच रही थी की राहुल ऐसा क्यों कर रहा है वह पहले तो अच्छे से बात करता था लेकिन अब तो न ही मैसेज का रिप्लाई देता है और तो और कॉल भी कट कर रहा है आखिर हो क्या रहा है ये सब सोचकर दिव्या रोने लगती है।

उसके आँख से आंसू गिरने लगता है वह टूटी हुई उदास और अकेला महसूस करती है फिर दिव्या छत पे जाती है और चाट से कूदना चाहती है फिर वह छत पे जितना तेज चिल्ला सकती थी उतना तेज चिल्ला रही थी।

फिर वो फैसला करती है की वो राहुल को खोने नही देगी और उसे अपने जिन्दगी में वापस लेके आएगी, दिव्या राहुल को फ़ोन लगाती है।

राहुल - हेल्लो, तुमने कॉल क्यों किया?

दिव्या - मै तुमसे मिलना चाहती हु 

राहुल - ठीक है 

कुछ घंटो बाद वो दोनों एक दुसरे से मिलते है और फिर बात करते है।

राहुल - बोलो, तुमने क्यों बुलाया मुझे?

दिव्या - मुझे कुछ कहना है तुमसे 

राहुल -  बोलो, क्या बोलना चाहती हो

दिव्या - क्या तुम ठीक हो, तुम मुझसे बात क्यों नही कर रहे हो

इतना बोलकर दिव्या फिर रोने लगती है और उन दोनों में झगडे हो जाते है, दिव्या वहाँ से भाग जाती है फिर 6 घंटे बाद राहुल अपने कमरे में होता है और उसके फ़ोन पे कॉल आता है।

फ़ोन पे दिव्या की माँ होती है और राहुल से बोलती है की "दिव्या तुमसे मिलने जिस कार से गयी थी उस कार का एक्सीडेंट हो गया है" और दिव्या इस समय हॉस्पिटल में भारती है।

इतना सुनते ही दिव्या से मिलने के लिए राहुल घर से बाहर भागता है और जब वह हॉस्पिटल पहोचता है तो दिव्या का नाम लेके दिव्या को बुलाता है, दिव्या अपनी आंखे खोलती है फिर राहुल बोलता है -

राहुल - क्या तुम ठीक हो, मुझे बहोत अफ़सोस हो रहा है

दिव्या - तुमने ऐसा क्यों किया?

राहुल - मुझे दिल की बीमारी है और मेरे पास अब ज्यादा दिन नही है इस लिए मै तुमसे दूर होना चाहता था, मै नही चाहता की मेरे जाने के बाद तुम दुखी रहो बस यही वजह थी तुमसे दुरी बनाने की

इतना बोलते ही दिव्या की आँखे बंद हो जाती है और राहुल उसे पुकारता है पर दिव्या का कोई जवाब नही आता है क्युकी दिव्या की मृत्यु हो गयी होती है ये सब देख कर राहुल को विश्वाश नही होता है की ये सब उसकी वजह से हुआ है।

10 मिनट बाद राहुल को दिल का दौरा पड़ता है और वो दुःख से मर जाता है।

2.जन्म दिन मुबारक हो - cute heart touching short love story

दो प्रेमी जिनका नाम रमेश और भारती था, ये दोनों एक दुसरे से बहोत प्यार करते थे और ये दोनों एक दुसरे से शादी करने के लिए अपने घर वालो से भी बात करने वाले थे।

एक दिन रात को 12 बजे भारती रमेश को कॉल करती है -

भारती - happy birthday baby

रमेश - thanks dear

भारती - मै शाम को 7 बजे आपको wish करने आउंगी

रमेश - ठीक है जानेमन

इतना बात करने के बाद वो दोनों एक दुसरे को बाय बोलते है और कॉल कट कर देते है और दोनों सो जाते है।

अगली सुबह रमेश उठता है और ऑफिस जाता है, शाम के 5 बज गए होते है और रमेश ऑफिस से घर जाता है birthday की तयारी करता है फिर भारती का इन्तेजार करने लगता है। शाम के 7:30 बज गया लेकिन भारती का कोई पता नही चलता है।

रमेश भारती का इन्तेजार करता है और भारती नही आती है तो उसे कॉल लगता है लेकिन भारती phone नहीं उठती है तभी रमेश के फ़ोन पे उसके घर वालो का कॉल आता है और रमेश अपने घर वालो से बात करने में व्यस्त हो जाता है।

शाम के 8 बज गए अचानक से रमेश के घर के दरवाजे की घंटी बजती है और रमेश जाके जब दरवाजा खोलता है तो सामने भारती कड़ी रहती है।

भारती को देख के रमेश खुस हो जाता है और बोलता है -

रमेश - हाय बेबी तुम्हे देख कर ख़ुशी हुई, आने में इतना समय क्यों लग गया?

भारती राहुल को गले लगाती है और राहुल से बोलती है -

भारती - ट्रैफिक ज्यादा था इसलिए आने में देरी हुआ

फिर भारती ने राहुल का बर्थडे मनाया और दोनों को भूख लग गयी तो दोनों भोजन करने लगे भोजन करने के बाद राहुल के फोन पे एक कॉल आता है राहुल फोन रिसीव करता है और बोलता है - हेल्लो

उधर से जवाब आता है मै भारती का पिता बोल रहा हु

रमेश - हा अंकल जी बोलिए 

दिव्या के पापा कापते हुए आवाज में बोलते है -

अंकल जी - बेटा मुझे यह कहते हुए बहोत अफ़सोस हो रहा है की भारती अब इस दुनिया में नही रही

रमेश - क्या बकवाश कर रहे है अंकल भारती तो मेरे घर पे मेरे साथ है

अंकल जी - मै झूट क्यों बोलूँगा बेटा वो मेरी बेटी थी अगर वो जीवित होती तो मै ऐसा क्यों बोलता उसकी सच में मृत्यु हो गयी है।

इतना सुनते ही रमेश पीछे मुड़ता है और देखता है की दिव्या मुस्कुरा रही है रमेश डर जाता है उसे कुछ समझ नही आता है तब दिव्या बोलती है, "डरो मत मैंने तुमसे वादा किया है की मै हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगी तो देखो मै तुम्हारे साथ हु और हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगी" इतना बोलकर दिव्या गायब हो जाती है।

3.अंतिम सवारी - short love story in hindi

विजय अपनी प्रेमिका अनीता को कॉल करता है और बोलता है -

हे बेबी कहाँ हो तुम, तुमने मुझसे वादा किया था की तुम 7 बजे आ जाओगी अभी तक तुम्हारा पता नही चल रहा जल्दी आओ

अनीता - हाँ बाबा आ रही हु मै ट्राफीक में फस गयी थी 

कुछ समय बाद अनीता वहाँ पहोच जाती है जहा विजय ने उसे बुलाया होता है वो दोनों मिलते है और कुछ समय वहाँ बैठ कर बात करते है।

8 बज जाता है फिर विजय अनीता को अपनी बाइक पे बिठाकर डिनर कराने ले जाता है वो दोनों होटल में जाते है और डिनर करते है डिनर करने के बाद विजय अनीता को उसके घर छोड़ने जाता है।

रास्ते में विजय बाइक बहोत तेज चलाने लगता है अनीता डर जाती है और उस से बोलती है

अनीता - प्लीज धीरे चलाओ न मुझे डर लग रहा है

विजय - नहीं, मुझे तो मजा आ रहा है 

अनीता - प्लीज यार धीरे चलो मुझे सच में बहोत डर लग रहा है

विजय - पहले ये बताओ की तुम मुझसे कितना प्यार करती हो

अनीता - अपनी जान से ज्यादा प्यार करती हु i love you

विजय - i love you too baby

इतना बात करने के बाद विजय बोलता है की मेरा हेलमेट उतारो और तुम पहन लो मुझे थोडा प्रॉब्लम हो रही है 

अनीता विजय के सर से हेलमेट उतरती है और खुद पहन लेती है।

अगले दिन अखबार के पहले पन्ने पर -

एक बाइक पे दो प्रेमी एक इमारत से टकरा कर दुर्घटना ग्रस्त हो गए। यह ब्रेक फेल होने की वजह से हुआ था। इस दुर्घटना में लड़की बच गयी परन्तु लड़के के सर पे चोट लगने के कारण उसने दम तोड़ दिया।

विजय जब बाइक चला रहा था तब वो जान गया था की ब्रेक नही लग रहा है इस लिए उसने हेलमेट अपनी प्रेमिका को पहनने के लिए बोला।

4.गरीब लड़के का सच्चा प्यार - school love story

निलेश नाम का लड़का बहोत ही गरीब था वह अपनी पढाई खुद मजदूरी करके करता था उसको school के सारे बचे बहोत चिढाते थे।

लेकिन निलेश को कोई फर्क नही पड़ता था उसको पता था की मेरे पास और कोई आप्शन नही है मुझे अगर पढ़ना है तो मजदूरी करनी पड़ेगी और अगर मै मजदूरी नही करूँगा तो पढ़ भी नही पाउँगा जिसकी वजह से मई मजदूर बनके ही रह जाऊंगा।

वह 10वी कक्षा में पढ़ता था और उसी कक्षा में एक नेहा नाम की लड़की भी पढ़ती थी जिसे निलेश बहोत प्यार करता था लेकिन उसने अपने प्यार का इज़हार कभी नही किया क्युकी वो जानता था अगर मै उससे अपने प्यार का इज़हार करूँगा तो मना कर देगी क्युकी मै गरीब हूँ और मजदूरी करता हु।

10 साल बाद -

निलेश अपनी मेहनत के दम पर एक बिज़नेस मैन बन गया और उसकी डिजिटल मार्केटिंग की कंपनी थी हर रोज़ की तरह निलेश अपनी कंपनी में जाता है जैसे ही कंपनी में कदम रखता है उसको नेहा दिखाई देती है।

फिर वो नेहा के पास जाता है और बोलता है -

अरे!! नेहा तुम यहाँ

नेहा उसे नही पहचानती है वह उठ कर कड़ी हो जाती है और बोलती है

सर, आप मुझे जानते है लेकिन मई तो आपको नही पहचान रही हूँ

निलेश - अरे!! मै निलेश तुम्हारे साथ पढता था इतनी जल्दी भूल गयी

नेहा - अच्छा हाँ याद आया 

निलेश - यहाँ कैसे आना हुआ

नेहा - मुझे job की जरुरत है मई job करने आई हु यहाँ

निलेश - अच्छा, तुम्हारी शादी हुई की नहीं

नेहा की आँखों में आंसू आ जाते है और वो रोते हुए बोलती है -

नेहा - मेरा शादी हो गयी है और अभी एक महीने पहले मेरे पति की मृतु हो गयी है इस लिए घर खर्चा चलने के लिए मै job करना चाहती हूँ

यह सुनकर निलेश के आँखों में आंसू आ गए क्युकी उसको अपनी गरीबी याद आ गयी और वो नेहा से प्यार भी करता था तो उसने फैसला लिया और बोला -

निलेश - मै तुमसे शादी करना चाहता हु क्युकी मै तुमसे पहले भी प्यार करता था और अब भी करता हु और इसलिए मै तुमको इस हालत में नही देख सकता।

नेहा हा बोल देती है फिर वो दोनों 1 हफ्ते बाद सदी कर लेते है और अपना जीवन खुशी-खुशी बिताते है।

अगर आपको यह short love stories अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ whatsapp और facebook पे शेयर जरुर करे निचे आपको शेयर बटन दिख जायेगा।